Godan Summary In Hindi

Godan Summary In Hindi: आज बहुत दिनों बाद मैंने एक नॉवेल पढ़ी है मुंशी प्रेमचंद द्वारा इस नावेल को लिखा गया है जिसका नाम है GODAN – A RITUAL । इस नावेल को 1956 में पब्लिश करवाया गया था और 1987 में लोकमान्य प्रेस द्वारा इसे हिंदी में पब्लिश करवाया गया था।

क्या आप जानते है गोदान का मतलब क्या होता है आप ये हमें कमेंट करके बताये चलिए जानते है मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखी गोदान नावेल के बारे में।

ये कहानी है होरी नाम के एक गरीब किसान की जो पढ़ा लिखा नहीं है वो अपने बीवी  और बेटे के साथ एक छोटे से गॉव में रहता है जिसकी बीवी का नाम है धनिआ और बेटे का नाम है गोबर इसके घर की आर्थिक हालत ठीक नहीं होने के कारण वो गॉव के जमींदार राइ साहब के पास जाता है

जमींदार के पास जाते हुए होरी को उसका दोस्त भोला मिलता है जिसने अभी अभी एक गाई ली है 80 रूपए की तो होरी भोला को बोलता है की तुम किस्मत वाले हो जो तुमने एक नयी गाई ली है

साथ ही आपको बतादू भोला की पत्नी की मृत्यु हो चुकी है और भोला होरी से बोलता है की तुम किस्मत वाले हो की तुम्हारे साथ तुम्हारी पत्नी है तो होरी बोलता है भोला तुम क्यों नहीं दुबारा शादी कर  लेते हो मेरे दिमाग में है कोई

    तो भोला तुरंत बोलता है तुम तो भगवान के अवतार बनके आये हो तुम मेरे लिए एक लड़की ढूंढो और ऐसा करो तुम मेरी ये गाय रख लो वैसे भी मी पास बोहोत गाय है  लेकिन उन गायो को खिलौ क्या चारा मेरे पास है नहीं क्युकी चारा खरीदने के पास मेरे पास पैसे है नहीं

Munshi Premchand Godan Summary In Hindi

तो अब होरी बोलता है मै तुम्हे चारा दे दूंगा मेरे पास बोहोत सारा  चारा है ऐसे ही दोनों दोस्तों में बाते होती है और भोला जाते जाते बोलता है होरी मेरी शादी के बारे में मत भूलना।

अब यहाँ से होरी सीधा राइ साहब के घर पर जाता है तो राइ साहब होरी को बोलते है की तुम्हे रामायण का एक रोल करना है राजा जनक के माली का, होरी बोलता है ठीक है मालिक जैसा आप कहे

अब राइ साहब टैक्स की बात करते है और बोलते है यहाँ का जो कलेक्टर है उसने 20000 रूपए टैक्स माँगा है तो अब ये टैक्स हमें किसानो से लेना पड़ेगा लेकिन मै किसानो को टैक्स देने के लिए जबरदस्ती नहीं करना चाहता ऐसा राइ साहब बोलते है राइ साहब जमींदार तो है लेकिन बाकी जमींदारों की तरह इनका स्वाभाव नहीं है और होरी को राइ साहब पर पूरा भरोशा है।

Summary In Hindi Pdf

जमींदारी ने किसानो की बहोत बुरी हालत है अब होरी अपने घर वापस जाता है तो उसे रास्ते में उसका बीटा गोबर मिलता है गोबर अपने पिता को बोलता है की पापा आप तो राइ साहब की कठपुतली हो जैसा जैसा वो बोलते है वैसा वैसा आप करते रहते हो, तो होरी अपने बेटे को समझते हुए बोलता है हम राइ साहब के नौकर है बेटा तो गोबर बोलता है आप नौकर होंगे राइ साहब के मै नहीं हु।

अब जैसा की होरी भोला से वादा करके आया था की वो उसे गाय के लिए चारा देगा तो होरी अपने बेटे के साथ भोला को चारा देने के लिए  जाता है, भोला की एक बेटी है जो बोहोत काम उम्र में विधवा हो गयी है जिसका नाम है झुनिया।

Godan In Hindi

तो जब होरी और उसका बेटा जब भोला के घर पहुंचते है तो गोबर भोला की बेटी झुनिया के साथ फ़्लर्ट करने लगता है अब ऐसे में होरी के घर में एक नयी गाय आती है होरी का बेटा गोबर घर में एक नयी गे लेकर आता है

अब होरी की पत्नी होरी से बोलती है इस गाय को बहार मत रखो तुम्हारा जो भाई है वो गाय को नुक्सान जरूर पहुचायेगा क्युकी होरी के भाई की नजर होरी की जमीन जायदाद पर है

Godan Summary In Hindi: होरी की पत्नी धनिया होरी से बोलती है की पिता ने जो भी जायदाद होरी को दी उसका बटवारा होरी ने अपने भाई  नहीं किया इसलिए होरी के भाई  के भाई का सोचना है होरी जो ये गाय लाया है वो उसके हिस्से से खरीद कर लाया है लेकिन होरी अब बोलता है की मेरे भाई  को क्या पता की ये गाय भोला ने मुझे गिफ्ट में दी है लेकिन अब मै इस गाय को वापस कर आता हु क्युकी इसके वजह से हमारे परिवार में दरार पड़ सकती है

Gaban Novel In Hindi Pdf Download

होली की पत्नी धनिया बोलती है की हम इस गाय को वापस नहीं करेंगे हमने तुम्हारे भाई को बच्चे की तरह पला पोषा लेकिन आज वो हमारे साथ क्या कर रहा है अब होरी बोलता है ये हमारी किस्मत है जो हमारे साथ खेल रही है

अब राइ साहब बात करते है प्रोफेसर  मेहता से यह एक फिलॉसिपी के प्रोफेसर है राइ साहब प्रोफेसर से बोलते है की मुझे किसानो की हालत देखकर बोहोत बुरा लगता है प्रोफेसर मेहता बोलते है की आप बात तो सोसोलोजिस्ट की तरह कर रहे है लेकिन आप पूरे लक्ज़री है

Godan Premchand Summary In Hindi

राइ साहब बोलते है की आप नहीं समझ सकते की मुझपर क्या बीत रही है तो प्रोफेसर मेहता बोलते है की आप ये चाहते है की सरकार ये जमींदारी का सिस्टम ख़तम कर दे आप बोलते तो काफी अच्छा है लेकिन आप खुद अपने कानून का पालन नहीं करते है ऐसा मेहता जी राइ साहब को बोलते है।

अब इसी बिच में एक में एक गेस्ट आती है जिनका नाम है मालती ये  डॉक्टर है और इन्होने बहार देश से पढाई की है अब ये तीनो मिलकर आपस में तय करते है की तीनो कल शिकार पर जायँगे और अंत में इनके साथ मिस्टर खन्ना भी जायँगे।

अगली सुबह ये लोग जंगल में जाते है और दो ग्रुप बनाते है राइ साहब और मिस्टर खन्ना एक ग्रुप और प्रोफेसर मेहता और डॉक्टर मालती, अब रास्ते में डॉक्टर मालती प्रोफेसर मेहता से कहती है हम काफी देर से चल रहे है तो हमें थोड़ा आराम कर लेना चाहिए तो प्रोफेसर मेहता कहते है की जबतक मै एक शिकार नहीं कर लेता मै आराम नहीं करने वाला।

ये दोनों जैसे तैसे बहस करते करते नदी पार करते है और  इन्हे राइ साहब और मिस्टर खन्ना मिलते है जो आपस में बात कर रहे होते है इतने में राइ साहब को एक चीता दिखाई देता है और राइ साहब उसका शिकार करने की कोशिश करते है।

और फिर जब ये अपनी कार की तरफ जा रहे होते है तो मिस्टर खन्ना राइ साहब से पूछते है की आपके पास गन्ने के बोहोत सारे खेत है तो आप मेरी गन्ने की फैक्ट्री में पार्टनर क्यों नहीं बन जाते, राइ साहब बोलते है इसके लिए बोहोत सरे पैसो की जरुरत है जो मेरे पास है नहीं।

Godan Munshi Premchand

मिस्टर खन्ना राइ साहब से बोलते है आप बैंक से लोन क्यों नहीं ले लेते अब यहाँ पर दो अमीर आदमी और ज्यादा अमीर होने का ख्वाब देख रहे थे और वह दूसरी तरफ गरीब दो वक़्त की रोटी की तलाश कर रहा था

मतलब वह होरी अपनी पत्नी धनिआ से बात कर रहा था की मुझे अपनी गाय बेचनी पड़ेगी क्युकी जिस जिस से होरी ने लोन ले रखा था वो सब अपना पैसा वापस मांग रहे थे धनिया बोलती है हम जैसे तैसे पैसे का इंतजाम कर लेंगे लेकिन आप गाय मत बेचिये

Godan Summary In Hindi: होरी बोलता है मै भी गाय बेचना नहीं चाहता चलो फिलहाल तो गर्मी हो रही है तो गाय को बहार बांधकर आता हु जब वो गाय को बहार बांधकर आता है तो उसकी पत्नी बोलती इसको इस टाइम बहार मत बांधो वैसे भी अभी गर्मी हो रही है और पता नहीं अबतक गोबर वापस क्यों नहीं आया है

तो होरी बोलता है तुम फालतू की चिंता करती हो आ जायेगा धनिया बोलती है क्या तुम जानते हो की वो कहा गया है वो बोलता है नहीं धनिए बोलती है की वो भोला की विध्वा बेटी से मिलने गया है

अगली सुबह गोबर अपने पापा को बुलाता है चिल्ला चिल्ला के क्युकी होरी को जो गाय थी वो मर गयी थी उसको जहर देकर किसी ने मार दिया था अब ये लोग सोचते है की कौन इसको जहर दे सकता है होरी  बोहोत रोटा है क्युकी किसान के लिए गाय बोहोत बड़ी चीज़ होती है

Godan Summary In Hindi

बाद में  होरी को पता चलता है की उसकी गाय को उसके भाई ने जहर देकर मार दिया जिसके साथ होरी ने जायदाद का बटवारा नहीं किया था लेकिन फिर भी होरी अपने भाई को जेल नहीं पहुंचना चाहता था इसलिए उसने पुलिस को कोई कंप्लेंट नहीं की।

लेकिन इनकी गाय क्या मरी इनके जो घर के हालत ख़राब थे वो और भी ज्यादा ख़राब हो गए अब होरी को भोला के पैसे वापस देने थे क्युकी भोला की गाय मर चुकी थी अब धनिया बोलती है गाय तो रही नहीं अब पैसे कहा से आयंगे तो होरी बोलता है हमको जैसे तैसे पैसे तो देने पड़ेंगे नहीं तो हमें गॉव से बहार कर दिया जायेगा।

तो धनिया बोलती है देखती हु कौन हमें गॉव से बहार करता है अब दिन में जब धनिया होरी से मिलते खेत में जाती है तो धनिया पूछती है क्या तुम्हारी तबियत ठीक है तो होरी बोलता है मेरी तबियत थोड़ी सी खराब है। 

Munshi Premchand Godan Summary In Hindi
Godan Summary In Hindi:

होरी पूछता है आज तुम यहाँ कैसे आयी तो धनिया बोलती है तुम्हे पता है गोबर ने हमारा नाम मिटटी में मिला दिया होरी बोलता है क्या हुआ है साफ़ साफ़ बताओ धनिया बोलती है मुझसे क्या पूछ रहे हो जेक झुनिया से पूछो जिसके साथ तुम्हारे बेटे का संबंध था और अब वो गर्भवती हो गयी है ।

होरी धनिया से पूछता है की क्या ये सच है पंचायत इसके लिए हमें सजा देगी ये सब करने के बाद गोबर अपने घर से भाग जाता है अब होरी और धनिया ने भोला की बेटी झुनिया जोकि एक विधवा थी उसे अपनी बहु के रूप में  स्वीकार कर लिया और अपने साथ अपने घर में रख लिया।

Munshi Premchand Ki Kahaniyan

लेकिन उस झुनिया को भी नहीं मालूम की गोबर कहा गया अब रात के समय होरी और धनिया बात कर रहे होते है की अब क्या होगा समझ नहीं आ रहा धनिया बोलती है की हमने कुछ गलत किया ही नहीं तो क्या होगा हमारे साथ में हमारे बेटे की वजह से एक विधवा गर्भवती हो गयी है।

अब जरूर पंचायत हमें सजा देगी तो धनिया पूछती है की क्या सजा देगी होरी बोलता है हमारी इस साल जो भी खेती होगी वो जप्त करली जाएगी अब धनिया पूछती है की तुम पंचायत से इतना डरते क्यों हो होरी चीड़ कर बोलता है तो और क्या करू ?

अगले झुनिया भाग कर आती है और बोलती है की मेरे पिताजी आये है झुनिया का पापा कौन है  सभी मुझे कमेंट करके बताये  अगर ये नोबेल आप पढ़ रहे है।

धनिया का पिता अपनी गाय के पैसे लेने आया था जिस गाय को होरी के भाई ने जहर देकर मार दिया था अब भोला बदले में दो बैलो की मांग करने लगा लेकिन होरी इटंस सीधा है की उसने अपनी बची हुई दोनों बैल भोला को दे दिया।

अब होरी की पत्नी बोलती है अगर हमारे पास बैल नहीं होंगे तो हमें बैल की जगह खेतो में काम करना पड़ेगा ऐसे में भोला बोलता है अगर तुम अपने बैलो को बचाना चाहते हो तो तुम्हे मेरी बेटी को अस्वीकार करना पड़ेगा और अपने घर से भागना पड़ेगा।

उसने पाप किया है उसे खुद भुगतने दो झुनिया ने गांव में मेरा नाम डूबा दिया है अब होरी भोला को मन कर देता है की मई झुनिया को कही नहीं जाने दूंगा साथ में धनिया भी बोल देती है की तुम्हे जो चाहिए वो ले जाओ।

Premchand Godan Summary

ऐसे में होरी की फसल भी जप्त करली जाती है तो होरी और धनिया सोचते है की ये हमारे पिछले जन्म के कर्म है जो हमें इस जन्म में भुगतने पड़ रहे है दिन बीत जाते है और झुनिया एक बच्चे को जन्म देती है लेकिन गोबर अभी तक वापस लौट कर नहीं आता है।

अब धीरे धीरे होरी की भी तबियत ख़राब होने लगी और धनिया हमेशा बोलता है की तुम्हे जयदा समय आराम करना चाहिए लेकिन होरी उसकी बात नहीं मानता है एक दिन गोबर वापस लौट कर आता हैऔर अपने साथ झुनिया और बेटे को सहर ले जाता है अपने साथ अपने माँ बाप को अकेला छोड़कर।

लेकिन गोबर ये भूल गया की जब गोबर यहाँ नहीं था तो उसके माँ बाप ने उसकी वजह से यहाँ कितनी परेशानियों का सामना किया उसकी बीवी को भी संभाला फिर भी इन सबके बावजूद होरी और धनिया इस बात को मान लेते है।

एक दिन फिर होरी का बीटा गोबर वापस लौट कर आता है और अपने पापा होरी से माफ़ी मांगता है लेकिन अभी भी गोबर सहर में ही रहना चाहता है क्युकी इससे डॉक्टर मल्टी के पास नौकरी मिल गयी है।

होरी अपना कर्जा चुकाने के लिए दिन रात काम करता है और अपनी सेहत ख़राब कर लेता है होरी बस इतना चाहता है की वो इतना पैसा जमा करले की एक गाय खरीद सके।

अगर होरी गाय खरीद लेगा तो अपने सरे कर्जे चूका सकता है धनिया बोलती है इतना पागलो की तरह काम मत करो तुम्हारी तबियत बोहोत ख़राब होती जा रही है एक दिन होरी काम करके शाम को जब घर आता है तो बिस्तर पर लेट जाता है

Godan Summary In Hindi

होरी इतना बीमार हो गया था की इसकी मरने जैसे हालत हो गयी थी धनिया बोलती है तुम्हे कुछ नहीं होगा तुम ठीक हो जाओगे तो होरी बोलता है मैंने अपनी जिंदगी में सब देख लिया है अब मेरे जाने का टाइम आ गया है लेकिन बस अफ़सोस इस बात का रहेगा की मै एक गाय नहीं खरीद सका।

मै बस थोड़ा सा पैसा जमा कर सका जो मेरे अंतिम संस्कार में काम आ जाएगा इसके बाद होरी की मृत्यु हो जाती है उसकी बस एक ही इक्छा थी की वो अपनी बीवी को जाते जाते एक गाय खरीद कर दे जा सके।

ऐसे में पंडित जी आते है और बोलते बोलते हैं शास्त्रों के हिसाब से तुम्हे गोदान करना पड़ेगा तभी जाकर इसकी आत्मा को शांति मिलेगी तो अब धनिया बोलती है की न तो मेरे पास गाय है न ही इसको खरीदने के पैसे पंडित जी बोलते है तुम  बहाने बना रही हो तुम हमारे शास्त्रों  ठेस पंहुचा रही हो।

इस दुनिया में जिसके पास पैसा है और जिसके पास नहीं है सबको एक ही हिसाब से देखा जाता है न जाने कब ये प्रथा ख़त्म होगी ये बोलके धनिया बेहोश हो जाती है और ये कहानी यही खत्म हो जाती है

तो दोस्तों कैसी लगी आप सभी को मुंशी प्रेमचंद की गोदान नॉवेल की कहानी हमें कमेंट करके बताये और अपने दोस्तों के साथ शेयर करे अगर आप हमारी वेबसाइट पर नए है तो निचे दिए बॉक्स में अपना ईमेल डालकर वेबसाइट को सब्सक्राइब करे ताकि ऐसी की ज्ञानवर्धक कहानिया और जानकारी सीधा आप तक पहुंच सके आपका बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।

Leave A Reply