Karwa Chauth Pooja Vidhi In Hindi

Karwa Chauth Pooja Vidhi In Hindi: हे श्री गणेश भगवान, हे माँ गौरी, जिस प्रकार करवा को चीर सुहागन का वरदान प्राप्त हुआ वैसा ही वरदान संसार की प्रत्येक सुहागनों को प्राप्त हो

सुहागन महिलाओ के लिए प्रत्येक व्रत तथा त्यौहार महत्वपूर्ण होते है  लेकिन करवा चौथ का व्रत सर्वाधिक महत्वपूर्ण और लोकप्रिय माना जाता है आइए देखा जाये तो कई बालिकाएं विवाह से पहले ही इस व्रत को करती है लेकिन विवाह के बाद पहला करवा चौथ का व्रत सभी व्रतों से विभिन्न होता है क्यों विवाह के बाद पहली दिवाली पहली होली या पहला जन्मदिन हो उसे पूरे हरसोउल्लास और ख़ुशी से मनाया जाता है इसी तरह करवा चौथ का व्रत शादीसुदा  महिलाओं के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है

Karva Chauth Pooja Vidhi

करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के सुबह दिवस को मनाया जाता है इस दिन प्रत्येक सुहागिन महिलाये अपने पति के लम्बी आयु के लिए व्रत करती है महिलाये पूरे दिन पानी और किसी प्रकार के खाने का सेवन नहीं करती है और शाम के समय चन्द्रमा को देखकर और पूजा विधि करके ही अपना व्रत तोड़ती है लेकिन आपको कुछ बातो को जानना जरुरी है जो व्रत के दौरान ध्यान में रखनी चाहिए

करवा हॉथ का व्रत जीता कठिन होता है उतनी ही इसमें सावधानी बरतनी पड़ती है इस आर्टिकल के माध्यम से आज मै आपको बताने वाला हु की करवा चौथ का व्रत कैसे करना चाहिए और क्या क्या सावधानी बरतनी चाहिए  

karva chauth poojan vidhi

Karwa Chauth Pooja Vidhi: पहली बार करवा चौथ का व्रत करते समय प्रात काल मतलब सूर्य उदय से पहले उठकर सबसे पहले अपने से बड़ो के आशीर्वाद लेकर ही व्रत को शुरुवात करनी चाहिए ऐसा करने से आपके परिवार में विकास सौभाग्य तथा समृद्धि बनी रहती है

इसके साथ ही यह भी ध्यान दे की करवा चौथ का व्रत रखने पर दोपहर के समय सोना नहीं चाहिए लेकिन दोपहर के समय प्रत्येक महिलाओ को इक्कठा होकर करवा माता के गीत गाने चाहिए और अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहिए

साथ ही व्रत के दौरान यह भी ध्यान रखना चाहिए की व्रत के दौरान किसी प्रकार के धारदार चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए पहली बार करवा चौथ का व्रत आपके साथ साथ आपके ससुराल वालो के लिए भी महत्वपूर्ण होता है

Karva Chauth Poojan Vidhi in Hindi

घर में आयी नयी बहु के साथ सास भी सुबह से ही व्रत की तैयारी में जुट जाती है और सासु माँ अपनी बहु को कुछ विशेष उपहार भी देती है जैसे नए वस्त्र गहने श्रृंगार तथा गहने। लेकिन कई जगहों पर नयी बहु को पहले करवा चौथ पर बहु के मायके से जोड़ा, गहने श्रृंगार का सामान तथा अन्य उपहार देने की परंपरा है  जिससे पहनकर नवविवाहिता संध्या काल में पूजा करती है यह एक बेटी के लिए एक बहु के लिए तथा सबसे अधिक एक पत्नी के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण बात है

Karwa Chauth Pooja Vidhi In Hindi

इसके अलावा संध्या के समय करवा चौथ माता की पूजा शुरू होने से पहले मताये अपनी बेटी के ससुराल में कुछ मिठाईया उपहार तथा फल भेजती है जिसे बाया कहा जाता है।

Karwa Chauth Pooja Vidhi: करवा चौथ में सरगी का भी विशेष महत्व होता है सरगी वह होती है जिसमे बादाम तथा अन्य मेवों के साथ सुहाग की निशानी होती है, सरगी के रूप में व्रत की शुरुवात करने से पहले सास अपनी बहु को कुछ मिठाईया तथा नए वस्त्र और श्रृंगार का सामान भी देती है    

सरगी के रूप में यह सास का अपनी बहु को आशीर्वाद माना जाता है करवा चौथ के सुबह दिवस वाले दिन सूर्यौदय होने से पहले लगभग 4 बजे से पहले महिलाये इस सरगी को खाकर अपने पावन करवा चौथ के व्रत का श्री गणेश का नाम लेकर व्रत प्रारम्भ करती है। इसके बाद पूरे दिन बिना कुछ खाये और पानी पिए इस व्रत को करना चाहिए और चन्द्रमा दिखने के बाद ही अपना ब्रैट खोलना चाहिए। 

करवा चौथ के दिन नवविवाहिता महिला सर्वाधिक सुन्दर और आकर्षक दिखाई देनी चाहिए सीधे शब्दों में बोलू तो करवा चौथ वाले दिन महिला दुल्हन की तरह दिखाई देनी चाहिए।   

Karwa Chauth Ki Puja Kaise Kare

जिसमें लाल रंग का जोड़ा शगुन के तौर पर माना जाता है करवा चौथ का व्रत महिलाओ के वैवाहिक जीवन से जुड़ा होता है और अगर हो सके तो  करवा  चौथ के दिन महिलाओ को विवाह का जोड़ा पहनना चाहिए

यदि विवाह का जोड़ा न पहन सके तो लाल रंग की साड़ी या लाल रंग का लहंगा उत्तम माना जाता है क्युकी लाल रंग सुहाग का रंग और प्रेम का प्रतिक माना  है इसीलिए  वाले दिन अधिक से अधिक लाल रंग का प्रयोग करना चाहिए इसके अलावा गुलाबी हरा और पिले रंग के वस्त्र भी इस दिन पहने जा सकता है

करवा चौथ में जितना आवश्यक पूजा पाठ और व्रत रखना होता है उतना ही आवश्यक कथा सुनना भी होता है देखा गया कई महिलाये कथा सुनने में रुचि नहीं रखती है  ध्यान से नहीं सुनती है और कई महिलाये आभाव  नहीं सुन पति है 

karwa chauth ki puja kaise kare

Karwa Chauth Pooja Vidhi: इस व्रत में जितना महत्व पूजन और व्रत करना होता है उतना ही महत्व कथा सुनना भी होता है अतः सभी महिलाओ को करवा चौथ की कथा अवश्य सुननी चाहिए

साथ ही ये भी ध्यान दे की पूजा के समय चन्द्रमा देखने से पहले करवा चौथ के गीत तथा भजन कीर्तन करना चाहिए करवा चौथ वाले दिन इस चीज का अत्यधिक मतत्व  है

करवा चौथ माता के गीत और भजन करने से आसपास का वातावरण सुद्ध हो जाता है तथा पूजन का पूर्ण फल प्राप्त होता है भजन को आप अपने आसपास की महिलाओ और परिवार के लोगो के साथ भी कर सकते है

संध्या के समय महिलाये पूजा करके चन्द्रमा को अर्ध्य देके अपने पति की पूजा करती है तथा उनके हाथ से पानी पीकर अपना व्रत खोलती है करवा चौथ के व्रत में चन्द्रमा की पूजा का विशेष महत्व है

Karwa Chauth Ki Sahi Puja Vidhi

हिन्दू धर्म के अनुसार चन्द्रमा को भगवन विष्णु जी का रूप माना जाता है तथा चन्द्रमा को लम्बी आयु का वरदान प्राप्त है चन्द्रमा में सुंदरता प्रेम तथा लाबी आयु जैसे कई विशेष गुण है

और प्रत्येक महिला जो करवा चौथ का व्रत करती है वह चन्द्रमा को देखकर ये कामना करती है की चन्द्रमा जैसे गन उनके पति में भी आ जाये

हिन्दू धर्म में सफ़ेद तथा काले रंग को अशुभ माना जाता है इसलिए करवा चौथ वाले दिन सफ़ेद तथा काले रंग के वस्त्र का प्रयोग नहीं करना चाहिए

साथ ही करवा चौथ वाले दिन सफेद रंग की किसी भी वस्तु का दान नहीं देना चाहिए चाहे वो भोजन का सामान ही क्यों न हो

Chauth Mata Vrat Katha in Hindi

एक ब्राह्मण के सात पुत्र थे और वीरावती नाम की इकलौती पुत्री थी। सात भाइयों की अकेली बहन होने के कारण वीरावती सभी भाइयों की लाडली थी और उसे सभी भाई जान से बढ़कर प्रेम करते थे. कुछ समय बाद वीरावती का विवाह किसी ब्राह्मण युवक से हो गया। विवाह के बाद वीरावती मायके आई और फिर उसने अपनी भाभियों के साथ करवाचौथ का व्रत रखा लेकिन शाम होते-होते वह भूख से व्याकुल हो उठी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है। लेकिन चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल हो उठी है।

karwa chauth in hindi

वीरावती की ये हालत उसके भाइयों से देखी नहीं गई और फिर एक भाई ने पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा लगा की चांद निकल आया है। फिर एक भाई ने आकर वीरावती को कहा कि चांद निकल आया है, तुम उसे अर्घ्य देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चांद को देखा और उसे अर्घ्‍य देकर खाना खाने बैठ गई।उसने जैसे ही पहला टुकड़ा मुंह में डाला है तो उसे छींक आ गई। दूसरा टुकड़ा डाला तो उसमें बाल निकल आया। इसके बाद उसने जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुंह में डालने की कोशिश की तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिल गया।

Karwa Chauth Mata Vrat Katha

उसकी भाभी उसे सच्चाई से अवगत कराती है कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ। करवा चौथ का व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं। एक बार इंद्र देव की पत्नी इंद्राणी करवाचौथ के दिन धरती पर आईं और वीरावती उनके पास गई और अपने पति की रक्षा के लिए प्रार्थना की। देवी इंद्राणी ने वीरावती को पूरी श्रद्धा और विधि-विधान से करवाचौथ का व्रत करने के लिए कहा। इस बार वीरावती पूरी श्रद्धा से करवाचौथ का व्रत रखा। उसकी श्रद्धा और भक्ति देख कर भगवान प्रसन्न हो गए और उन्होंनें वीरावती सदासुहागन का आशीर्वाद देते हुए उसके पति को जीवित कर दिया। इसके बाद से महिलाओं का करवाचौथ व्रत पर अटूट विश्वास होने लगा।

आज के आर्टिकल में इतना ही अगर ये आर्टिकल आपको पसंद आया होतो इससे शेयर करे ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए निचे दिए डब्बे में अपना ईमेल डालकर वेबसाइट को सब्सक्राइब करे      

 

       

Comments
  1. sikis izle

    If you want to use the photo it would also be good to check with the artist beforehand in case it is subject to copyright. Best wishes. Aaren Reggis Sela

  2. porno

    Rattling nice style and fantastic content , absolutely nothing else we need : D. Janis Wit Jacquet

  3. sikis izle

    Some truly quality blog posts on this web site , saved to favorites . Jemie Jervis Karolyn

  4. porno

    I visited many blogs however the audio feature for audio songs existing at this web site is truly wonderful. Cybil Ad Mayfield

  5. sikis izle

    Perfect work you have done, this website is really cool with good information. Meredithe Kevon Elyssa

  6. sikis izle

    I consider something really special in this internet site. Valera Dom Lauter

  7. sikis izle

    Hey, thanks for the post. Really looking forward to read more. Fantastic. Odetta Sayre Lelia

  8. sikis izle

    This post presents clear idea in favor of the new visitors of blogging, that in fact how to do running a blog. Cathleen Archie Lamson

  9. erotik

    By ensuring the field is safe, you can help prevent unnecessary injuries. Jen Georgie Matthaus

  10. sikis izle

    You made some good points there. I looked on the internet for the issue and found most persons will consent with your website. Lilias Patricio Alber

  11. erotik izle

    There is definately a great deal to know about this subject. I really like all of the points you made. Brier Otes Undine

  12. sikis izle

    Thank you ever so for you blog article. Much thanks again. Want more. Bibi Andrew Borras

  13. erotik izle

    This article is in fact a fastidious one it assists new internet viewers, who are wishing for blogging. Giacinta Virgie Willms

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *