Top 8 Special Forces In India

Top 8 Special Forces In India: भारतीय सेना के सिपाही दिन रात देश की सुरक्षा में खड़े रहते है देश में आयी आपदा हो या देश में चोरी से घुसा कोई दुश्मन हो या नापाक हरकतों का मुँह तोड़ जवाब देना हो किसी भी कीमत पर भारतीय सेना के पैर नहीं डगमगाते इनका लक्ष्य बस एक ही होता है किसी भी कीमत पर देश के नागरिको की सुरक्षा करना। 

आम तौर पर भारतीय सेना के रूप में आर्मी नेवी और एयर फाॅर्स को जानते होंगे पर भारत के पास कुछ ऐसी स्पेशल फोर्सेज है जो सबकी नज़र में आये बिना दुश्मनो के दांत खट्टे करना जानती है तो चलिए जानते है भारत के कुछ ऐसे ही स्पेशल फोर्सेज के बारे में मै हु आपके साथ अजीत ठाकुर स्वागत है आपका ज्ञानवर्ल्ड में।

NSG COMMANDOS

nsg commando kya hota hai

NSG COMMANDOS जिन्हे ब्लैक कैट कमांडो के नाम से भी जाना जाता है भारत देश में सबसे प्रचलित कमांडो है यह फार्स अपने काम को करने में बिलकुल भी नहीं हिचकिचाती चाहे वो दुश्मनो को ढूंढ कर निकलना हो या देश में छुपे दुश्मनो को निकालकर मारना हो।

वर्ष 1984 में इस फाॅर्स का गठन किया गया था यह फाॅर्स सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा के मोटो पर काम करती है और 26/11 के मुंबई हमले में बिना किसी मुसीबत के सफलतापूर्वक दुश्मनो से निपटने में NSG COMMANDOS का बोहोत बड़ा योगदान है। ऑपरेशन ब्लू स्टार जैसे मिशन को भी इस फाॅर्स ने बड़ी कुशलता के साथ अंजाम दिया है NSG COMMANDOS न सिर्फ भारत बल्कि विश्व की सबसे बेहतर फाॅर्स में शामिल है

NSG COMMANDOS कमांडो हरदम ट्रैंनिंग पर रहते है ताकि आपातकालीन स्तिथि में यह देश की सुरक्षा में सीना तान कर खड़े रहे सिर्फ चुनिन्दा लोग ही इस फाॅर्स का हिस्सा बन पाते है इसमें शामिल होने के लिए कड़ी परीक्छाओ से होकर गुजरना पड़ता है NSG COMMANDOS की चयन प्रक्रिया में काफी सावधानियों का सामना करना पड़ता है जिसकी वजह से इसमें शामिल होने वाले युवाओ का ड्राप रेट 70 से 80% होता है

GARUD COMMANDO

garud commando kya hota hai

Top 8 Special Forces In India: आसमानी रक्षक गरुड़ फाॅर्स का गठन 2004 में किया गया था गरुड़ फाॅर्स हवाई युद्ध में माहिर माने जाते है अपने हुनर से इनको पता होता है की कैसे दुश्मन की सीमा में घुसकर अपने साथियो को सफलतापूर्वक बहार लाना है गरुड़ फाॅर्स की ट्रेनिंग भारत के सबसे सफल फाॅर्स के द्वारा हुई है गरुड़ फाॅर्स को वर्ष 2004 में एयर फाॅर्स दिवस के दिन दुनिया के सामने लाया गया था।

मौजूदा समय में लगभग 1000 सैनिक गरुड़ फाॅर्स में काम कर रहे है बाकी फाॅर्स से अलग गरुड़ फाॅर्स इसलिए एयर फाॅर्स के सैनिको को गरुड़ फाॅर्स बनने का मौका देती है इसकी ट्रैनिग सबसे लम्बी होती है जोकि लगभग 72 हफ्तों की होती है और पूरी तरह से गरुड़ फाॅर्स में शामिल होने में लगभग 3 साल का समय लग जाता है इनका मोटो है प्रहार से सुरक्षा यह हर तरह के प्रहार से देश की सुरक्षा करने में तत्पर रहते है

गरुड़ कमांडो को 72 हफ्तों की ट्रेनिंग दी जाती है जोकि बेसिक ट्रेनिंग होती है हलाकि पूरी ट्रेनिंग 3 साल की होती है प्राथमिक तौर पर इन्हे ग़ज़िआबाद (दिल्ली) के   एक छुपे हुए एयर बेस पर ट्रेनिंग दी जाती है यहाँ से इन्हे नौसेना स्कूल भेजा जाता है और फिर जंगल वल्फायेर स्कूल भेजा जाता है

MARCOS COMMANDO

marcos commando kya hai

MARCOS COMMANDOS भारतीय नौसेना के सर्वोत्तम स्पेशल फाॅर्स है  यह हर तरह के कामो में माहिर है फिर चाहे वो दुश्मन से आमने सामने की लड़ाई हो बंधकों को बचाना हो और इन्हे जल सम्बन्धी कार्यो में महारत हासिल है इस फाॅर्स को ढाढी वाली फ़ौज के नाम से भी जाना जाता है क्युकी ये नागरिको वाली जगहों पर ढाढी बढाकर आते है ताकि इन्हे अलग से पहचाना जा सके।

MARCOS COMMANDO हमेशा अत्याधुनिक हथियारों से लैश रहते है ताकि ये दुश्मन से आगे रह सके कारगिल युद्ध और मुंबई 26/11 हमले में MARCOS COMMANDO ने भी साथ दिया था वही 1985 में MARCOS COMMANDO FORCE गठन किया गया था।  इस फाॅर्स में शामिल होने की ट्रेनिंग 2 साल की होती है इसकी खाश बात यह है की इसमें 20 से 24 साल के ही लोगो को चुना जाता है

Top 8 Special Forces In India: ट्रेनिंग के साथ इन फाॅर्स को अमेरिकन और ब्रिटिश फाॅर्स के साथ काम करने और सिखने का मौका भी मिलता है जिसकी मदद से यह फाॅर्स हर तरह से लड़ने के लिए तैयार हो जाते है, MARCOS COMMANDOS विश्व की सबसे कठोर ट्रेनिंग से होकर गुजरते है इन्हे शारीरिक और मानशिक रूप से तैयार किया जाता है

MARCOS COMMANDO ट्रेनिंग में पहले तीन दिन फिजिकल फिटनेस और ऐटिटूड टेस्ट लिया जाता है इस परीक्षा को केवल 20% उम्मीदवार ही पास कर पाते है इनकी बेसिक ट्रेनिंग INS अभिमन्यु में होती है, पैरा जंपिंग की ट्रेनिंग आगरा के पैरा ट्रूपर ट्रेनिंग स्कूल में होती है, डाइविंग की ट्रेनिंग कोच्चि के नेवी डाइविंग स्कूल में होती है

MARCOS COMMANDO हाथ पैर बंधे होने पर भी तैरने में पूरी तरह सक्षम होते है

COBRA COMMANDO

COBRA COMMANDO दुनिया की बेह्तरीक पेरा मिलिट्री फाॅर्स मेसे एक है COBRA FORCE को commando battalion for resolute action फाॅर्स के नाम से जाना जाता है यह CRPF की स्पेशल फाॅर्स है इसका काम जंगल की लड़ाईया लड़ना इनकी लड़ाई की टेक्निक को गोरिल्ला टेक्निक भी बोलते है

इस फाॅर्स का गठन नक्सलवाद का खात्मा करने के लिए किया गया था वही नक्सली जंगलो में छुपे रहते है इसलिए उन्हें ढूंढ  कर निकलने का काम इन्हे दिया जाता है, इस फाॅर्स का गठन 12 सितम्बर 2008 को हुआ था इस फाॅर्स का मोटो यश का मृत्यु है जंगल में होने वाली लड़ाई में कोबरा फाॅर्स को सबसे अनुभवी फाॅर्स कहा जाता है

COBRA COMMANDO के सैनिको को गोरिल्ला लड़ाई बेम को मोड़ना जंगल में जिन्दा रहने जैसी तरकीबे सिखाई जाती है ताकि मुश्किल समय में भी सिपाही को पता हो कब किस वक़्त क्या करना है यह फाॅर्स अबतक दो सौर्य चक्र से नवाजे जा चुकी है वही इस फाॅर्स को 3 महीने की कड़ी ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है, ट्रेनिंग के दौरान इन्हे जंगल से जुडी हर बात के बारे में बताया जाता है ताकि ये हर हाल में दुश्मन को मात दे सके।

COBRA COMMANDO की ट्रेनिंग NSG COMMANDO के सामान होती है प्रत्येक कमांडो को पैराशूट से हेली जम्प की ट्रेनिंग मिलती है इन्हे लम्बी दूरी तय करके खुफिया जानकारी प्राप्त करने की बेहतरीन टेक्निक होती है, 3 महीनो की ट्रेनिंग के बाद इन्हे नक्सली इलाको में तैनात किया जाता है

GHATAK FORCE

ghatak commando kaise bane

Top 8 Special Forces In India: घातक फाॅर्स का काम है भारतीय थल सेना के साथ काम करना यह एक 20 लोगो की पल्टन होती है जिसका काम है दुश्मन को चौकना और फिर उसपर हमला करना यह थल सेना से आगे चलकर काम करते है ताकि सेना को आने वाले खतरों का पहले ही पता चल जाये यह दुश्मन के इलाको में छापा मारते हुए जाते है

यहाँ तक की बड़े बड़े जंगलो में दूर बैठे दुश्मनो पर भी घातक सेना होसियारी से हमला कर सकती है कारगिल के जंग में भी इनका सहयोग रहा था इनकी ट्रेनिंग काफी कठिन और खतरनाक होती है इन्हे 50 से 60 किलोमीटर तेज चलने की ट्रेनिंग दी जाती है इन्हे ट्रेनिंग के दौरान हाथ में बन्दूक रखकर और पीठ पर 20 किलो वजन रखकर मिलो तक चलाया जाता है इस प्रकार घातक सेना शारीरिक रूप से काफी खतरनाक होते है

GHATAK FORCE COMMANDO को कर्णाटक के बेंगलुरु में ट्रेनिंग दी जाती है ट्रेनिंग के दौरान कमांडो को 20 से 60 किलोमीटर बैटल गियर राउंड मशीन चलना सिखाया जाता है इसके बाद इन्हे हाई अलटीटुड वैलफेयर स्कूल भेजा जाता है घातक फाॅर्स को ब्रिटिश आर्मी के साथ भी ट्रेनिंग दी जाती है

परमवीर चक्र विजेता योगेंदर सिंह यादव घातक फाॅर्स का हिस्सा थे जिन्होंने कारगिल  के टाइगर हिल्स पर पकिस्तान के खिलाफ अपने सैन्य कौशल का प्रदर्शन किया था

PARA COMMANDO

Top 8 Special Forces In India

PARA COMMANDO भारत के सफल फोर्सेज में से एक है यह सिर्फ जमीं में ही नहीं हवा में भी लड़ सकते है पैरा कमांडो ने 1971 और 1991 में हुए जंग में एहम भूमिका निभाई थी पैरा कमांडो को पैराशूट से कूदकर दुश्मन के इलाको में अंदर तक घुसने में महारथ हासिल है PARA COMMANDO का नाम आपने हाल ही में सुना होगा और यह नाम काफी प्रचलित भी है

हाल में ही PARA COMMANDO ने पाकिस्तान के के कश्मीर में घुसकर आतंकी ठिकानो को नष्ट किया था यह आतंकिओ से निपटने बंधकों को बचाने के लिए मशहूर है PARA COMMANDO भारत की पहली और सबसे पुरानी पैराशूट रेजिमेंट है, PARA COMMANDO का गठन 1966 में हुआ था

Top 8 Special Forces In India: पैरा कमांडो की लगभग 3 साल तक चलने वाली ट्रेनिंग बोहोत ही कठिन मानी जाती है पैरा कमांडो की आसमान में छलांग लगाने से पहले जमीन पर कड़ी ट्रेनिंग होती है जोकि 15 दिन की होती है पैरा कमांडो को आसमान से 5000 से 30000 फ़ीट की उचाई से छलांग लगाकर दुश्मन का खत्म करने की ट्रेनिंग दी जाती है, एक पैरा कमांडो के पास दो पैरा सूट होते है

पहले पैराशूट का वजन 15 किलोग्राम होता है वही दूसरे रिजर्व पैराशूट का वजन 5 किलोग्राम होता है

FORCE ONE

Top 8 Special Forces In India

Top 8 Special Forces In India: मुंबई हमले के बाद महाराष्ट्र सरकार ने ये फैशला किया की वो अपने महानगर की सुरक्षा के लिए अपनी खुदकी एक फाॅर्स तैयार करेगी इसी वजह से महाराष्ट्र सरकार ने FORCE ONE नाम की सेना का गठन किया, इस फाॅर्स की सबसे बड़ी ताकत इसकी तेजी है यह फाॅर्स मात्र 15 मिनट में अपने हथियारों से भरे सामन के साथ तैयार होने में सक्षम होती है

इनकी ट्रेनिंग में DRDO, NSG और इसराइल की स्पेशल फाॅर्स लगती है विस्फोट का ज्ञान अचूकता से दुश्मन पर गोली बरसाने की कला इनको अलग बनाती है कहा जाता है की मुंबई में किसी भी प्रकार के आतंकी हमले को  रोकने में सक्षम है इनकी भर्ती के समय 3000 आवेदन आये थे जिनमे से बस 216 लोगो का ही चयन किया गया था

FORCE ONE SPECIAL FORCE का गठन 2010 में किया गया था इस फाॅर्स का लक्ष्य मुंबई को सुरक्षित रखना है

SPECIAL FRONTIER FORCE

Top 8 Special Forces In India

भारत चीन युद्ध के बाद इस SPECIAL FRONTIER FORCE का गठन हुआ था इस फाॅर्स को कहा गया था चीन की तरफ से कोई भी अनचाहा कदम उठाये तो ये फाॅर्स छिपकर दुश्मन की सीमा में घुसकर उससे खदेड़ दे वो बात अलग है भारत को इस फाॅर्स के असली काम की कभी जरूरत नहीं पड़ी, यह फाॅर्स RAW के साथ मिलकर भी काम करता है जोकि एक भारतीय खुफिया संगठन है।

इस फाॅर्स को किसी भी मिशन से पहले प्रधानमंत्री को सूचना देनी पड़ती है इस फाॅर्स का गठन 14 नवंबर 1962 में हुआ था

तो दोस्तों ये थी भारत की कुछ स्पेशल फोर्सेज यह कमांडो हर तरह की समस्या में देश की सुरक्षा के लिए तैयार खड़े रहते है इन्ही के कारण हम और आप चैन की जिंदगी जी पाते है वैसे भी देखा जाये तो एक कमांडो बनना कोई आसान बात नहीं है कड़ी मेहनत के साथ शरीर टूट जाने की मेहनत और मानसिक दबाव को भी झेलना पड़ता है

Tकैसा लगा आप सभी को हमारा आर्टिकल (Top 8 Special Forces In India) कमेंट के माध्यम से हमें बताये जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे इसी तरह की ज्ञानवर्धक जानकारिया पाने के लिए निचे दिए बॉक्स में आप अपना ईमेल डालकर हमारे वेबसाइट को फॉलो भी कर सकते है आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बोहोत बोहोत धन्यवाद।           

Leave A Reply