Zomato Success Story in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Zomato Success Story in Hindi: किसी शायर ने सच कहा है मंजिल उन्ही को मिलती है जिनके सपनो में जान होती है पंख से कुछ नहीं होता हौशलों से उड़ान होती है आज हम जान्ने वाले है जोमैटो की खोज करने वाले DEEPINDER GOYAL के जीवन के बारे में आप सभी ने जोमैटो का नाम तो सुना ही होगा जब भी हमें भूख लगती है हम सभी अपने घर के पास के किसी रेस्टोरेंट से ऑनलाइन आर्डर करके खाना मंगवाते है जोमैटो ऑनलाइन फूड आर्डर करने के लिए सबसे बड़ी फूड इ कॉमर्स कंपनी है जिसने काफी तेजी से लोगो के बीच अपनी लोकप्रियता बनायीं है पर आपको पता है जमाइटो की शुरुवात किसने और कैसे की तो चलिए जानते है Zomato की कहानी में हु आपके साथ अजीत ठाकुर स्वागत है आपका ज्ञानवर्ल्ड में

Deepinder Goyal Biography in Hindi

Deepinder Goyal Biography in Hindi

आज की कहानी की शुरुवात होती पंजाब के मुक्तर शहर से जहा डेविन्दर गोयल का जन्म हुआ इनके माता पिता शिक्षक थे और यही कारण था उनके घर में पढाई का माहौल बना रहता है का माहौल बना रहता है डेविन्दर गोयल ने 2005 में आईआईटी दिल्ली से ऍम टेक की पढ़ाई पूरी की इसके तुरंत बाद इन्होने बैन & कंपनी में कल्संटेंट फर्म में कंसलटेंट के रूप में काम किया ऑफिस में लंच के दौरान डेविन्दर ने देखा कि उनकी कंपनी के रेटोरांट में लोग लम्बी कतार में लाइन लगाकर खाने का मेनू देखने के लिए अपनी बारी का इंतजार किया करते थे

जिसकी वजह से लोगो का काफी समय बर्बाद हो जाता था तभी डेविन्दर के दिमाग में एक ख्याल आया वे पेशे से इंजीनियर थे और टेक्नोलॉजी का अच्छा ज्ञान रखते थे           

जिसके चलते देवेंदर ने अपने साथियों की समस्या को दूर करने के लिए FOODIEBAY.COM नाम की एक वेबसाइट की शुरुवात की जोकि एक मामूली सी वेबसाइट थी जिसमे दिल्ली और आपस के छेत्रो के करीब 12 रेस्टोरेंट के मेनू शामिल थे

और उनके इस आईडिया को उनके कंपनी के CO-FOUNDER पंकज चड्डा ने काफी सराहना की अब लोगो को खाना लेने के लिए रेस्टोरेंट नहीं जाना पड़ता अब सभी ऑनलाइन घर बैठे रेस्टोरेंट का मेनू और अपना मनपसंद खाना आर्डर कर सकते है    

यह आइडिया काफी प्रचलित हुआ और धीरे धीरे दीपिंदर गोयल की यह वेबिते लोगो में फैलने लगी और परिणाम ये हुआ धीरे धीरे इसका  विस्तार होने लगा दीपिंदर गोयल की किस्मत काफी तेजी से बढ़ रही थी और साथ ही उनकी पत्नी को दिल्ली विश्वविद्यालय में नौकरी भी मिल गयी, पत्नी की तरफ से मिली आर्थिक मदद और कारोबार में हुई रफ़्तार से मनो दीपिंदर गोयल के पंख लग गए           

Why Zamato is Successful

और अब दीपिंदर गोयल ने अपनी जॉब छोड़ने का फैसला किया और अपना पूरा ध्यान अपने बिज़नेस की और केंद्रित कर दिया और वर्ष 2010 में दीपिंदर गोयल ने foodibay.com नाम बदलने का फैशला किया इसकी दो वजह थी वो ऐसा नाम चाहते थे जो छोटा हो और याद रखने में आसान हो दूसरा foodibay नाम ऑनलाइन e-commerce कंपनी ebay से मिलता जुलता था

और इन्ही दो कारणों की वजह से foodiebay नाम बदलकर जोमाटो कर दिया गया लेकिन क्या आपको पता है जोमाटो नाम रखने का ख्याल कैसे आया दीपिंदर गोयल के दिमाग में तो अगर आप जोमाटो मेसे z हटादे और टी लगादे तो दोस्तों zomato tomato  को सोचकर रखा गया है

अब जोमाटो अलग अलग शहरों में फैलता चला गया और अब जोमाटो को एक इन्वेस्टर की जरुरत थी और जोमाटो की कामयाबी को देखते हुए naukri.com और infoedge जैसी बड़ी कम्पनीज ने जोमाटो में निवेश किया

और इसके साथ ही zomato की  मोबाइल application को भी लांच किया गया और महज 8 वर्षो में जोमाटो देश और दुनिया में अपनी चाप आज भी छोड़ रहा है

जोमाटो को एशिया के सबसे बड़े रेस्टोरेंट का गाइड माना जाता है वर्ष 2010 में जोमाटो को टॉप 10 websites मेसे एक माना जाता है  

लेकिन इतना फण्ड होने के बाद भी जोमाटो नुक्सान में चल रहा था लेकिन इसके बाद कुछ ऐसा हुआ जिससे इंटरनेट की साडी कमपनी फायदे में होने लगी इसके बाद वर्ष 2014 में आया jio और jio के आने से अब इंटरनेट हर आम आदमी के जीवन का हिस्सा बन गया

Zomato Success Story in Hindi

शुरू शुरू में जोमाटो बस खाने के मेनू देता था लेकिन अब जोमाटो ने फ़ूड सप्लाई भी शुरू करदी और इसके बाद zomato ने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा

और आज लगभग 24 देशो में 8 करोड़ से भी ज्यादा लोग जोमाटो के फ़ूड सर्विस का लाभ उठा रहे है सबसे बड़ी बात अब लोगो को बिना घर से बहार जाये उनका पनपसन्द खाना घर आ जाता है क्या अपने कभी zomato से खाना मंगवाया है अगर हाँ तो हमें कमेंट करके बताये आपको zomato की खानी अच्छी लगी होतो इससे दोतो के साथ शेयर करे 

Zomato Customer Care

Click Here For Zomato Customer Care Number

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave A Reply